आयुष दर्पण

स्वास्थ्य पत्रिका ayushdarpan.com

गर्मी में क्यूँ पीयें ताम्बे के बर्तन में रखा पानी

1 min read
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

गर्मी के दिनों में अक्सर हम ठन्डे पानी की तलाश में झटपट फ्रीज में संग्रहित पानी पी लेते हैं,लेकिन यदि हम पुरातन परम्पराओं पर नजर दौडाएं तो हमें मिटटी की सुराही या ताम्बे के बर्तन में संग्रहित किये गए जल की स्वतः याद आ जायेगी Iआज हम आपको ताम्बे के बर्तन में संग्रहित किये गए एवं ताम्बे के गिलास या जग का प्रयोग करते हुए जल सेवन के महत्व पर प्रकाश डालेंगे I
आयुर्वेदमतानुसार ताम्बे के बर्तन में एकत्रित जल त्रिदोषशामक होता है इसे’तमारा’ जल नाम भी दिया जाता है I इस संग्रहित जल की सबसे बड़ी खूबी होती है कि यह अधिक समय तक सुरक्षित रहता है I ताम्बे को जीवाणुरोधी प्रभाव के कारण भी जाना जाता है अतः ‘स्वच्छता-अभियान’ के लिए ताम्बे के बर्तन में एकत्रित किया गया जल लोगों में पीने के पानी के संक्रमण से होनेवाले रोगों में लगाम लगा सकता है I ताम्बे के बर्तन में एकत्रित किया पानी थाईरोक्सिन हारमोन के स्तर के नियंत्रण में भी मददगार होता है I ताम्बे के बर्तन में एकत्रित जल पीना हमारे मस्तिष्क की कार्यकुशलता को भी बढाता है साथ ही साथ सूजनरोधी प्रभाव के कारण जोड़ों के दर्द में भी लाभ प्रदान करता है Iअमेरीकन कैंसर सोसाईटी के शोध अनुसार ताम्बा कैंसर की प्रारम्भिक अवस्था में काफी मददगार होता है Iताम्बे को अपने एंटीमाइक्रोबीयल एवं एंटीवायरल प्रभावों के कारण जल्द ही घावों को भरने वाले गुणों से युक्त माना गया है Iताम्बे के बर्तन में एकत्रित पानी हमारे शरीर की अतिरिक्त चर्बी के साथ-साथ हमारे वजन को नियंत्रित करने में भी मददगार होता है I ताम्बे को एक ऐसे धातु के रूप में जाना जाता है जिसकी अल्प मात्रा शरीर में संपन्न होनेवाली क्रियाओं के लिए आवश्यक होती है यह पोषक तत्वों के रक्तवाहिनियों में संचरण को भी नियंत्रित करता है जिससे एनीमिया जैसी स्थितियों में भी काफी लाभ मिलता है Iताम्बे के बर्तन में एकत्रित पानी हमारे दिल सहित रक्तचाप को नियंत्रित रखता है I तो आईये आज से ही हम अपनी पुरातन एवं वैज्ञानिक सोच को पुनर्जीवित करें और इस बार गरमीयों में अधिक से मिट्टी या ताम्बे के बर्तन में संग्रहित जल का पान करें I

Facebooktwitterrssyoutube
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

2 thoughts on “गर्मी में क्यूँ पीयें ताम्बे के बर्तन में रखा पानी

  1. Tamara jal ka sevan ka matra kya hai…ham kya dinbhar Tamara jal sevan kar sakte hai???kuchh logo ki mane to adhik sevan se toxicity bhi ho sakti hai…Kripya is sandarbh me jankari de…

    1. इसे आप केवल एक ताम्बे के लोटे में रात्रीपर्यंत संगृहीत किये गए जल को उषाकाल में सेवन करने की मात्रा से ही समझें जिसका कोई साईड इफेक्ट नहीं है !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © 2019 AyushDarpan.Com | All rights reserved.