आयुष दर्पण

स्वास्थ्य पत्रिका ayushdarpan.com

जानीये औषधियों में कैसे निवास करती हैं मां दुर्गा

1 min read
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

हमारे देश की सनातन परंपरा हमे पशु पक्षियों सहित पेड़ पौधों तक मे ईश्वरीय चेतना के जागृत होने को संकेत करते रहे हैं ।यूं ही नही हम पीपल,गिलोय ,वट आदि वृक्षों के सामने अक्सर शीश नवाते हैं।आईये जानते हैं इस नवरात्रि कैसे जागृत करें इन दिव्य औषधियों में निवास करनेवाली शक्तिरूपा मां दुर्गा को।

एक मत यह कहता है कि ब्रह्माजी के दुर्गा कवच में वर्णित नवदुर्गा नौ विशिष्ट औषधियों में विराजमान हैं।

प्रथम शैलपुत्री (हरड़) : कई प्रकार के रोगों में काम आने वाली औषधि हरड़ हिमावती है जो देवी शैलपुत्री का ही एक रूप है। यह आयुर्वेद की प्रधान औषधि है। यह पथया, हरीतिका, अमृता, हेमवती, कायस्थ, चेतकी और श्रेयसी सात प्रकार की होती है।
द्वितीय ब्रह्मचारीणी (ब्राह्मी) : ब्राह्मी आयु व याददाश्त बढ़ाकर, रक्तविकारों को दूर कर स्वर को मधुर बनाती है। इसलिए इसे सरस्वती भी कहा जाता है।

तृतीय चंद्रघंटा (चंदुसूर) : यह एक ऎसा पौधा है जो धनिए के समान है। यह औषधि मोटापा दूर करने में लाभप्रद है इसलिए इसे चर्महंती भी कहते हैं।

चतुर्थ कूष्मांडा (पेठा) : इस औषधि से पेठा मिठाई बनती है। इसलिए इस रूप को पेठा कहते हैं। इसे कुम्हड़ा भी कहते हैं जो रक्त विकार दूर कर पेट को साफ करने में सहायक है। मानसिक रोगों में यह अमृत समान है।

पंचम स्कंदमाता (अलसी) : देवी स्कंदमाता औषधि के रूप में अलसी में विद्यमान हैं। यह वात, पित्त व कफ रोगों की नाशक औषधि है।

षष्टी कात्यायनी (मोइया) : देवी कात्यायनी को आयुर्वेद में कई नामों से जाना जाता है जैसे अम्बा, अम्बालिका व अम्बिका। इसके अलावा इन्हें मोइया भी कहते हैं। यह औषधि कफ, पित्त व गले के रोगों का नाश करती है।

सप्तमी कालरात्रि (नागदौन) : यह देवी नागदौन औषधि के रूप में जानी जाती हैं। यह सभी प्रकार के रोगों में लाभकारी और मन एवं मस्तिष्क के विकारों को दूर करने वाली औषधि है।

अष्टमी महागौरी (तुलसी) : तुलसी सात प्रकार की होती है सफेद तुलसी, काली तुलसी, मरूता, दवना, कुढेरक, अर्जक और षटपत्र। ये रक्त को साफ कर ह्वदय रोगों का नाश करती है।

नवमी सिद्धिदात्री (शतावरी) : दुर्गा का नौवां रूप सिद्धिदात्री है जिसे नारायणी शतावरी कहते हैं। यह बल, बुद्धि एवं विवेक के लिए उपयोगी है।

इस नवरात्रि आपसब को आयुष दर्पण पोर्टल की तरफ से समृद्धि एवं आरोग्य की शुभकामनायेँ। 

Facebooktwitterrssyoutube
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

3 thoughts on “जानीये औषधियों में कैसे निवास करती हैं मां दुर्गा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © 2019 AyushDarpan.Com | All rights reserved.